Diwali Puja Hatane ke Niyam: दिवाली के बाद कब उठानी चाहिए पूजा, इस दिन उठाने से मां लक्ष्मी रहती हैं हमेशा साथ

Diwali Puja Hatane ke Niyam: पूजा चाहे कोई भी हो, उसकी स्थापना और उसे उठाने यानि हटाने का एक नियम होता है। रविवार को दीपावली का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया गया। शुभ मुहूर्त में दिवाली की पूजा की गई। पर क्या आप जानते हैं कि दिवाली की पूजा कब और कैसे उठानी। यदि नहीं तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि दिवाली की पूजा कब उठानी चाहिए। ताकि मां लक्ष्मी आपके घर में स्थाई निवासी करें।

मान्यता अनुसार इस दिन उठानी चाहिए पूजा

पौराणिक मान्यता अनुसार दिवाली की पूजा के बाद मां लक्ष्मी को विराजा जाता है। इसके बाद ऐसा माना जाता है कि कम से कम मां लक्ष्मी दो दिन तक घर में आराम करें। इसी मान्यता के चलते कभी भी दिवाली पूजन दिवाली के दूसरे दिन नहीं उठाना चाहिए। बल्कि दिवाली के बाद भाई दूज की पूजा करके ही लक्ष्मी पूजन को हटाना चाहिए।

कब है भाई दूज

हिन्दू पंचांग के अनुसार इस साल भाई दूज का त्योहार 15 नवंबर यानि बुधवार को मनाया जाएगा। हिन्दू पंचांग के अनुसार इस दिन कार्तिक माह की द्वितीया तिथि दोहपर 1:48 तक रहेगी। यानि इस दिन सुबह जल्दी पूजन करने के बाद दिवाली की पूजा उठाई जाएगी। इतना ही नहीं इसी दिन भाई दूज की पूजा के बाद दुकानें खेली जाएंगी। हिन्दू मान्यता के अनुसार दिवाली की पूजा के बाद व्यापारी अपनी दुकानें और व्यापार बंद रखते हैं। एक दूसरी मान्यता या लोक चलन के अनुसार दिवाली के बाद दो दिन के विश्राम के बाद व्यापार शुरू किया जाता है।

Leave a Comment